kharif-vs rabi crops

खरीफ फसल और रबी फसल में अंतर

Spread the love

नमस्कार …  अंतरकोश में आपका स्वागत है। आज हम इस आर्टिकल में आपको खरीफ और रबी फसलों के बीच अंतर बताने जा रहें हैं। जब सरकार MSP घोषित करती है तब अक्सर आप इन शब्दों को सुनते होंगे। जैसा कि आप सभी जानते हैं कि भारतीय अर्थव्यवस्था में कृषि की महत्त्वपूर्ण भूमिका है। आज भी 60% से अधिक जनसंख्या प्रत्यक्ष और अप्रत्यक्ष रूप से कृषि पर निर्भर है। भारतीय फसलों का वर्गीकरण भिन्न-भिन्न आधारों पर किया जा सकता है। जैसे  उपयोगिता के आधार पर – खाद्य फसलें, नकदी फसलें, दलहनी फसलें आदि। ऋतुओं के आधार पर – खरीफ फसलें, रबी फसलें और जायद फसलें। आइये आज हम खरीफ और रबी फसलों के बीच अंतर देखते हैं। 

खरीफ फसलें 

वे फसलें जो जून और जुलाई महीने के शुरू में बोई जाती हैं और अक्टूबर – नवंबर के बीच काटी जाती हैं खरीफ फसलें कहलाती हैं। खरीफ फसलों का समय मानसून की शुरुआत के साथ शुरू होता है और वर्षा ऋतु खत्म होने पर समाप्त होता है। इसलिए खरीफ फसलें मानसूनी फसलें होती हैं। वास्तव में खरीफ शब्द अरबी भाषा का शब्द है जिसका अर्थ होता है पतझड़। चूँकि खरीफ की फसल अक्टूबर – नवंबर में तैयार होती हैं जिस समय पतझड़ होता है अतः इस दौरान तैयार होने वाली फसलों को पतझड़ की फसल अर्थात  खरीफ फसल कहा गया है।

ये भारत सहित दक्षिण एशिया के कई देशों जैसे  पाकिस्तान, बांग्लादेश आदि में वर्षा पर आधारित फसलें हैं। वर्षा की विषमताओं के कारण  इनकी बुवाई का समय आगे पीछे हो सकता है। जैसे केरल में मानसून एक जून के आस पास प्रवेश कर जाता है और वहाँ  खरीफ फसलों की बुवाई शुरू हो जाती है किन्तु उत्तर भारत में इनकी बुवाई देर से होती है। इन फसलों के लिए गर्म मौसम और अधिक पानी की आवश्यकता होती है। चावल, मक्का, कपास, गन्ना, मूंगफली, ज्वार, बाजरा आदि खरीफ फसलों के उदाहरण हैं।

kharif crops

रबी फसलें

रबी फसलों को सर्दियों में उगाया जाता है, अर्थात जब मानसून समाप्त होता है और ग्रीष्म ऋतु के आगमन से पहले काटा जाता है। इस कारण रबी फसलों को ठंड की फसल या बसंत ऋतु की फसल भी कहते हैं। वास्तव में रबी शब्द अरबी भाषा का शब्द है जिसका अर्थ है ‘बसंत’। अतः रबी फसलें वे फसलें होती हैं जो सर्दियों के मौसम की शुरुआत में लगाई जाती हैं और बसंत के मौसम में कटाई की जाती हैं। इसलिए रबी फसलों को बसंत की फसल भी कहते हैं। 

रबी फसलों की बोवाई अक्टूबर – नवंबर में की जाती है। रबी फसल मार्च अप्रैल में तैयार हो जाती हैं और तब इनकी कटाई की जाती है। इन फसलों के बीजों के अंकुरण के लिए थोड़ा गर्म मौसम चाहिए होता है किन्तु पौधों के लिए शीत ऋतु ही उपयुक्त होती है। प्रमुख  रबी फसलें हैं –  गेहूँ ,जौ, चना, मटर, राई, सरसों, मसूर,बरसीम,मशरूम,आदि।

खरीफ फसल और रबी फसल में  अंतर 

◆ खरीफ फसलों की बुवाई मानसून के शुरू होने के साथ शुरू होती है जबकि रबी फसलों की बुवाई मानसून ख़त्म होने के बाद शुरू होती है।

◆ खरीफ फसलों को मानसूनी फसलें भी कहा जाता है जबकि रबी फसलों को बसंत फसलें भी कहते हैं।

◆ खरीफ फसलों के लिए ज्यादा पानी की आवश्यकता होती है जबकि  रबी फसल के लिए  कम पानी की आवश्यकता होती है। अतः खरीफ की फसलों की अपेक्षा रबी की फसलें ज्यादा सुरक्षित होती हैं। 

◆ खरीफ फसलों को उच्च तापमान चाहिए जबकि रबी फसलों को ठंडा मौसम चाहिए । हालाँकि बीजों को अंकुरित होने के लिए थोड़ा गर्म मौसम चाहिए होता है।

◆ खरीफ फसलों की बुआई का समय जून जुलाई होता है जबकि रबी फसलों की बुवाई का समय अक्टूबर नवंबर होता है।

◆ फसल तैयार होने का समय सितंबर से अक्टूबर के बीच होता है जबकि  रबी फसलें मार्च- अप्रैल में काटी जाती हैं।

◆ खरीफ फसलों में चावल, मूँगफली, ज्वार, बाजरा, कपास प्रमुख हैं जबकि रबी फसलों में गेहूँ, चना, मटर, तिलहन प्रमुख हैं।

आपको हमारे द्वारा दी गयी जानकारी कैसी लगी, कमेंट करके अवश्य बताएँ और अपने प्रियजनों को भी शेयर करें। यदि आपको हमारे आर्टिकल में कोई गलती दिखे या आपके मन में कोई अन्य सवाल या सुझाव हो तो वो भी आप हमसे पूछ सकते हैं। हम आपके सवाल का जवाब देने और आपके सुझाव को समझने का पूरा प्रयास करेंगे। धन्यवाद !

इस प्रकार के और अंतर जानने के लिए visit करें www.antarkosh.com

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *