लॉयर, एडवोकेट, बैरिस्टर, प्लीडर, एडवोकेट जनरल और अटॉर्नी जनरल में अंतर

एक विधि स्नातक व्यक्ति लॉयर कहलाता है। जब यह BCI का एग्जाम पास कर लेता है तो एडवोकेट कहलाता है और जब इंग्लैंड से लॉ डिग्री प्राप्त करता है तो बैरिस्टर कहलाता है। 

एक एडवोकेट लॉयर हो सकता है लेकिन एक लॉयर एडवोकेट नहीं हो सकता है। यही एडवोकेट जब सरकार की तरफ से पीड़ित का केस लड़ता है तो लोक अभियोजक कहलाता है। और जब प्राइवेट तौर पर पीड़ित का केस लड़ता है तो प्लीडर कहलाता है। यही एडवोकेट जब राज्य सरकार की तरफ से राज्य सरकार का केस लड़ता है तो एडवोकेट जनरल और जब केंद्र सरकार का केस लड़ता है तो एटॉर्नी जनरल कहलाता है। एटॉर्नी जनरल की सहायता करने वाले सॉलिसिटर जनरल कहलाते हैं।